अजीत सिंह हत्याकांडः वारदात में आया कुंटू सिंह का नाम, प्रशासन ने घर पर चलवाया बुलडोजर

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में बुधवार की रात अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। इस मामले में आजमगढ़ के माफिया कुंटू सिंह का नाम सामने आया। कुंटू सिंह का नाम सामने आने के बाद आजमगढ़ जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई शुरू कर दी।

आजमगढ़ जिला प्रशासन ने गुरुवार को माफिया ध्रुव कुमार सिंह उर्फ कुंटू सिंह के मकान और कटरे पर बुलडोजर चलवा दिया है। जीयनपुर में स्थित कुंटू सिंह की तीन मंजिला इमारत गिराने के लिए भारी फोर्स के साथ डीएम एसपी भी पहुंचे। कुंटू पर आजमगढ़, मऊ, जौनपुर में गम्भीर धाराओं में 67 मुकदमे दर्ज हैं।

इन पर दर्ज हुआ केस
विभूतिखंड में हुए गैंगवार के दौरान अजीत सिंह की गोली लगने से मौत हो गयी, जबकि अजीत सिंह का साथ मोहर सिंह और एक डिलीवरी ब्वॉय आकाश घायल हो गया। वहीं, इस मामले में घायल मोहर सिंह ने कुंटू सिंह, अखंड सिंह और गिरधारी विश्वकर्मा के खिलाफ 302,307,120बी और धारा 34 के तहत मुकदमा दर्ज कराया।

दोस्ती से इस तरह शुरू हुई दुश्मीन
बताया जाता है कि अजीत सिंह और कुंटू सिंह के बीच काफी समय पहले अच्छी दोस्ती थी। लेकिन संपत्ति के बंटवारे में दोनों के बीच मतभेद हो गया। इसके बाद दोनों के बीच दुश्मनी बढ़ गयी। आजमगढ़ के सगड़ी के तत्कालीन विधायक सर्वेश सिंह सीपू की हत्या की साजिश रचे जाने की मुखबिरी इसी अजीत सिंह ने की थी। इसकी वजह से प्रशासन ने सीपू सिंह को सुरक्षा प्रदान की थी। हालांकि बाद में सीपू सिंह की हत्या कर दी गई। इसमें कुंटू सिंह का नाम आया था।

ब्लॉक प्रमुख बनना चाहता था कुंटू सिंह
बताया जा रहा है कि कुंटू सिंह ब्लॉक प्रमुख बनना चाहता था। लेकिन अजीत सिंह के कारण उसका ये सपना पूरा नहीं हुआ। इसके साथ ही संपत्ति को लेकर उनके बीच विवाद भी हो गया।
जिसके बाद कुंटू सिंह अजीत को अपने राह का सबसे बड़ा रोड़ा मानने लगा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *